संवाददाता-दिनेश रावत 

श्रद्धालुओं ने माखन मिश्री का भोग लगाकर उत्सव मनाया।

थत्यूड़। टिहरी जिले के जौनपुर विकासखंड के ग्राम सभा कुआं में चल रही श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान यज्ञ के चौथे दिन भगवान श्री कृष्ण जन्म उत्सव बड़ी धूमधाम के साथ एवं भजन कीर्तन के साथ मनाया गया जिसमें हाथी घोड़ा पालकी जय कन्हैया लाल की नंद के आनंद भयो जय कन्हैया लाल की जैसे तमाम भजनों के साथ आनंद मय होकर श्री कृष्ण जन्म उत्सव मनाया गया इस अवसर पर कथा व्यास नवल किशोर लेखवार ने कहा कि जब जब
धरती मां पर अत्याचार अधर्म बढ़ने लगता है तब तक भगवान का अवतार होता है और भगवान धर्म की रक्षा करते हैं सत्संग में आने का अवसर सभी को नहीं मिलता। भागवत कथा सुनने से दुःख विषाद से प्रसाद बन जाता है, जबकि सुख पाकर व्यक्ति अभिमानी बन जाता है। दुःख मिलने पर भगवान के प्रति आस्था बढ़ती है। श्रीमद् भागवत कथा कल्पवृक्ष है, इसे सुनने मात्र से मानव का कल्याण होता है। कथा श्रवण से जन्म-जन्मांतर के विकार नष्ट होते हैं। प्राणी का लौकिक व अध्यात्मिक विकास होता है। व्यक्ति भव सागर से पार हो जाता है। इससे सभी
मनोकामनाएं पूरी होती हैं। सोया हुआ ज्ञान जाग्रत हो जाता है। कृष्ण जन्मोत्सव के दौरान श्रद्धालुओं ने माखन मिश्री का भोग लगाकर उत्सव मनाया।इस अवसर पर जगदीश प्रसाद कोठारी वीरेंद्र कान्यकुब्ज घनश्याम लेखवार कथा यजमान जय प्रकाश नौटियाल गुरु प्रसाद नौटियाल रमेश लेखवार महावीर प्रसाद नौटियाल आदि लोग उपस्थित थे
Share To:
Next
Newer Post
Previous
This is the last post.

Post A Comment: